एक ही कंपनी के सिम कार्ड को इस्तेमाल करते करते हम लोग बोर हो जाते हैं इस के पीछे कई कारण हो सकते हैं।

कभी ऐसा होता है कि जिस कंपनी का सिम कार्ड हम लोग इस्तेमाल करते हैं उस में नेटवर्क कम आने लगता है, जब हम इंटरनेट चलाते हैं तो हम को पहले की तरह स्पीड नहीं मिल पाती ।

मोबाइल नंबर पोर्ट करवाने का Better तरीका


स्पीड ना मिलने की वजह से हम लोग चाहते हैं की हम लोग अपने नंबर को दूसरे ऑपरेटर में शिफ्ट कर दें और पहले ऑपरेटर को छोड़ दें।

ताकि जो दिक्कत इंटरनेट चलाते समय हम को आती रहती है वह दूर हो जाए और अच्छी नेट स्पीड मिल सके।


सबसे पहले SMS सेंड करें

जिस भी ऑपरेटर का सिम आप को अच्छा लगे जिस ऑपरेटर का सिम कार्ड आप के लिए बेहतर हो उस को चुने।

ऑपरेटर चुनने के बाद UPC जिस का फुल फ़ॉर्म यूनिक पोर्टिंग कोड होता है उस को जनेरेट करें।

UPC के करने के लिये 1900 नंबर पर एक एसएमएस सेंड करे आप को एसएमएस में यह लिखना होगा (port<space>mobile number) मोबाइल नंबर की जगह अपना मोबाइल नंबर डालें।

कुछ समय के बाद आप के मोबाइल पर 1901 नंबर से एक एसएमएस प्राप्त होगा जिस में यूनिक पोर्टिंग कोड लिखा होता है।


सर्विस प्रोवाइडर के पास जायें

यूनिक पोर्टिंग कोड जनेरेट करने के बाद जिस कंपनी का सिम लेना चाहते हैं उस सर्विस प्रोवाइडर के पास जायें और साथ में अपने आधार कार्ड को भी लेते जायें।

आप यह कोड उस को बताए उस के बाद आधार कार्ड मांगा जाएगा आपका बायोमेट्रिक लिया जाएगा उस के बाद आप को सिम मिल जाएगा।


सिम कार्ड एक हफ्ते के अंदर एक्टिवेट हो जायेगा

एक हफ्ते के अंदर अंदर आप के मोबाइल पर नंबर पोर्ट करने का मैसेज आयेगा जिस में जिस में पोर्टिंग का डेट दिया गया होगा।

जो डेट उस में लिखा होगा उस डेट को आप के पुराने नंबर पर सिग्नल आना बंद हो जायेगा और न्यू सिम एक्टिवेट हो जायेगा।

कौन सिम पोर्ट हो सकते हैं

सिम पोर्ट करवाने के लिए लिए एक कंडिशन है वह यह है कि आप जिस सिम को पोर्ट करवा रहे हैं वह कम से कम 90 दिन पुराना होना चाहिए।

मोबाइल नंबर पोर्ट करवाने का Better तरीका

एक ही कंपनी के सिम कार्ड को इस्तेमाल करते करते हम लोग बोर हो जाते हैं इस के पीछे कई कारण हो सकते हैं।

कभी ऐसा होता है कि जिस कंपनी का सिम कार्ड हम लोग इस्तेमाल करते हैं उस में नेटवर्क कम आने लगता है, जब हम इंटरनेट चलाते हैं तो हम को पहले की तरह स्पीड नहीं मिल पाती ।

मोबाइल नंबर पोर्ट करवाने का Better तरीका


स्पीड ना मिलने की वजह से हम लोग चाहते हैं की हम लोग अपने नंबर को दूसरे ऑपरेटर में शिफ्ट कर दें और पहले ऑपरेटर को छोड़ दें।

ताकि जो दिक्कत इंटरनेट चलाते समय हम को आती रहती है वह दूर हो जाए और अच्छी नेट स्पीड मिल सके।


सबसे पहले SMS सेंड करें

जिस भी ऑपरेटर का सिम आप को अच्छा लगे जिस ऑपरेटर का सिम कार्ड आप के लिए बेहतर हो उस को चुने।

ऑपरेटर चुनने के बाद UPC जिस का फुल फ़ॉर्म यूनिक पोर्टिंग कोड होता है उस को जनेरेट करें।

UPC के करने के लिये 1900 नंबर पर एक एसएमएस सेंड करे आप को एसएमएस में यह लिखना होगा (port<space>mobile number) मोबाइल नंबर की जगह अपना मोबाइल नंबर डालें।

कुछ समय के बाद आप के मोबाइल पर 1901 नंबर से एक एसएमएस प्राप्त होगा जिस में यूनिक पोर्टिंग कोड लिखा होता है।


सर्विस प्रोवाइडर के पास जायें

यूनिक पोर्टिंग कोड जनेरेट करने के बाद जिस कंपनी का सिम लेना चाहते हैं उस सर्विस प्रोवाइडर के पास जायें और साथ में अपने आधार कार्ड को भी लेते जायें।

आप यह कोड उस को बताए उस के बाद आधार कार्ड मांगा जाएगा आपका बायोमेट्रिक लिया जाएगा उस के बाद आप को सिम मिल जाएगा।


सिम कार्ड एक हफ्ते के अंदर एक्टिवेट हो जायेगा

एक हफ्ते के अंदर अंदर आप के मोबाइल पर नंबर पोर्ट करने का मैसेज आयेगा जिस में जिस में पोर्टिंग का डेट दिया गया होगा।

जो डेट उस में लिखा होगा उस डेट को आप के पुराने नंबर पर सिग्नल आना बंद हो जायेगा और न्यू सिम एक्टिवेट हो जायेगा।

कौन सिम पोर्ट हो सकते हैं

सिम पोर्ट करवाने के लिए लिए एक कंडिशन है वह यह है कि आप जिस सिम को पोर्ट करवा रहे हैं वह कम से कम 90 दिन पुराना होना चाहिए।

No comments